डाउनलोड मुद्रण

अ+   अ-

कविता

स्मरणीय भाव
श्रीधर पाठक


वंदनीय वह देश, जहाँ के देशी निज-अभिमानी हों
बांधवता में बँधे परस्पर, परता के अज्ञानी हों
निंदनीय वह देश, जहाँ के देशी निज अज्ञानी हों
सब प्रकार पर-तंत्र, पराई प्रभुता के अभिमानी हों।


End Text   End Text    End Text