डाउनलोड मुद्रण

अ+   अ-

कविता

हमारैं हरि हारिल की लकरी
सूरदास


हमारे हरि हारिल की लकरी।
मन क्रम वचन नंद-नंदन उर, यह दृढ़ करि पकरी।
जागत सोवत स्वप्न दिवस-निसि, कान्ह-कान्ह जकरी।
सुनत जोग लागत है ऐसौ, ज्यौं करुई ककरी।
सु तौ ब्याधि हमकौं लै आए, देखी सुनी न करी।
यह तौ 'सूर' तिनहिं लै सौंपौ, जिनके मन चकरी।।


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में सूरदास की रचनाएँ