डाउनलोड मुद्रण

अ+   अ-

कविता

अँखियाँ हरि-दरसन की प्यासी
सूरदास


अँखियाँ हरि-दरसन की प्यासी।
देख्यौ चाहति कमलनैन कौं¸ निसि-दिन रहतिं उदासी।
आए ऊधौ फिरि गए आँगन¸ डारि गए गर फाँसी।
केसरि तिलक मोतिन की माला¸ वृंदावन के बासी।
काहू के मन को कोउ न जानत¸ लोगनि के मन हाँसी।
सूरदास प्रभु तुम्हरे दरस कौ¸ करवत लैहौं कासी।।


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में सूरदास की रचनाएँ