डाउनलोड मुद्रण

अ+   अ-

कविता

निसि दिन बरसत नैन हमारे
सूरदास


निसि दिन बरसत नैन हमारे।
सदा रहत पावस ऋतु हम पर, जबते स्याम सिधारे।
अंजन थिर न रहत अँखियन में, कर कपोल भए कारे।
कंचुकि-पट सूखत नहिं कबहुँ, उर बिच बहत पनारे।
आँसू सलिल सबै भइ काया, पल न जात रिस टारे।
सूरदास प्रभु यहै परेखौ, गोकुल काहैं बिसारे।


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में सूरदास की रचनाएँ