डाउनलोड मुद्रण

अ+   अ-

कविता

मन मैं रह्यौ नाहिंन ठौर
सूरदास


मन मैं रह्यौ नाहिंन ठौर।
नंदनंदन अछत कैसैं, आनियै उर और।
चलत चितवत दिवस जागत, स्वप्न सोवत राति।
हृदय तैं वह मदन मूरति, छिन न इत उत जाति।
कहत कथा अनेक ऊधौ, लोग लोभ दिखाइ।
कह करौं मन प्रेम पूरन, घट न सिंधु समाइ।
स्याम गात सरोज आनन, ललित मदु मुख हास।
सूर इनकैं दरस कारन, मरत लोचन प्यास।।


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में सूरदास की रचनाएँ