डाउनलोड मुद्रण

अ+   अ-

कविता

जब हरि मुरली अधर धरत
सूरदास


जब हरि मुरली अधर धरत।
थिर चर, चर थिर, पवन थकित रहैं, जमुना-जल न बहत।
खग मोहैं, मृग-जूथ भुलाहीं, निरखि मदन-छबि छरत।
पसु मोहैं, सुरभी बिथकित, तृन दंतनि टेकि रहत।
सुक सनकादि सकल मुनि मोहैं, ध्यान न तनक गहत।
सूरजदास भाग हैं तिनके, जे या सुखहिं लहत।।


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में सूरदास की रचनाएँ