डाउनलोड मुद्रण

अ+   अ-

कविता

साजि चतुरंग सैन अंग मैं उमंग धारि
भूषण


साजि चतुरंग सैन अंग मैं उमंग धारि
सरजा सिवाजी जंग जीतन चलत है।
भूषण भनत नाद बिहद नगारन के
नदी-नद मद गैबरन के रलत है।
ऐल-फैल खैल-भैल खलक में गैल गैल
गजन की ठैल-पैल सैल उसलत है।
तारा सो तरनि धूरि-धारा में लगत जिमि
थारा पर पारा पारावार यों हलत है।।


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में भूषण की रचनाएँ