डाउनलोड मुद्रण

अ+   अ-

कविता

दारा की न दौरि यह खजुएकी रारि नाहिं
भूषण


दारा की न दौरि यह खजुएकी रारि नाहिं,
बाँधिबो नहोय या मुरादसाह-बालको।
मठ विश्वनाथ को, न बास ग्राम गोकुल को,
देवी को न देहरा, न मंदिर गोपाल को।
गाढ़े गढ़ लीन्हें अरु बैरी कतलाम कीन्हें,
ठौर ठौर हासिल उगाहत हैं साल को।
बूड़ति है दिल्ली सो सँभारे क्यों न दिल्लीपति,
धक्का आनि लाग्यौ सिवराज महाकाल को।।


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में भूषण की रचनाएँ