डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

हाऊ वाज द डे
निशांत


हाऊ वाज द डे?
कहकर
चेहरे पे मौत की कालिख पोत दी
सहकर्मी मित्र ने

नहीं पूछा
- पति की तबियत कैसी है?
- और भी कोई परेशानी?
या कुछ भी और...

अँग्रेजी का एक वाक्य
चीरकर चला गया
मुझे

हिंदी में मैंने जवाब दिया
- ठीकठाक।
और घाव
सील गई।


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में निशांत की रचनाएँ