डाउनलोड मुद्रण

अ+   अ-

व्यंग्य

आओ, मेरी तारीफ करो !
टी. आर. चमोली


अपनी तारीफ सुनकर किसे खुशी नहीं होती। वैसे दूसरों की बुराई करने में भी काफी खुशी मिल जाती है किंतु अपनी तारीफ की तो बात ही कुछ और है। पता नहीं आपको होती हो या नहीं किंतु साहब मुझे तो अपनी तारीफ में बहुत खुशी होती है। सच कहूँ तो दूसरों की बुराई करने से भी अधिक होती है।

तारीफ का आविष्कारक अवश्य ही कोई बुद्धिमान व्यक्ति रहा होगा। देवता भी हो सकता है क्योंकि मनुष्यों से पहले देवताओं में तारीफों का वर्णन मिलता है। देवताओं की तारीफ की भी जाती है और वे स्वयं एक दूसरे की तारीफ करते भी हैं। बहरहाल यह शोध का एक अच्छा विषय हो सकता है कि तारीफ का आविष्कारक कौन था? लेकिन इतना तो दावे के साथ कहा जा सकता है कि यदि इसका आविष्कारक कोई मनुष्य होता और उस समय नोबल पुरस्कार प्रचलन में होता तो उसे इस पुरस्कार से सुशोभित करने में किसी को कोई संकोच न होता।

वर्तमान में तारीफ के कई समानार्थी शब्द प्रचलन में आ गए हैं, जैसे - प्रशंसा, खुशामद, जीहुजूरी, चापलूसी, चमचागिरी करना आदि और नवनीत-लेपन, मक्खन लगाना इत्यादि। इनसे आजकल दूसरे के गुणों की तारीफ की जाती है और उसके व्यक्तित्व की शोभा बढ़ाई जाती है। सच्ची वस्तुओं और बातों का चलन कम होने के कारण अब लोगों को झूठी तारीफ से ही काम चलाना पड़ रहा है।

तारीफ का महत्व राजतंत्र, अधिनायकतंत्र, लोकतंत्र व भीड़तंत्र से लेकर झूठतंत्र तक सब में रहा है, और है। पुराने जमाने में किसी ने राजा-महाराजा की तारीफ की नहीं कि राजा-महाराजा ने उसे 10 गाँव या सोने की 100 अशर्फियों से नवाजा नहीं। उस समय चारण और भाट इस कला में निष्णात थे और राजा-महाराजा इसके पारखी कद्रदान। सब देशों और कालों में इसका विकास हुआ है। आज तो इसका सर्वतोन्मुखी विकास हो रहा है।

लोकतंत्र की स्थापना के साथ ही तारीफ के स्कोप में काफी वृद्धि हुई है। लोकतंत्र में पहले छुटभइया नेता बड़े नेता की तारीफ करता है, दूसरों से अपनी तारीफ करवाता है और बदले में चुनाव का टिकट पा जाता है। इसके बाद वह मतदाता की तारीफ करता है और चुनाव जीतता है। उसके कुर्सी पर बैठते ही जनता अपना काम निकालने के लिए उसमें 64 कलाएँ ढूँढ़ निकालती है और उसकी तारीफ करती है। किंतु नेता बेचारे को फुर्सत कहाँ! फिर चुनाव होने पर वही नेता जनता की अदालत में रोता, गिड़गिड़ाता है। अपनी तारीफ और विरोधी नेताओं की निंदा करता है। जनता को सर्वाधिक योग्य बताकर बड़े मनोयोग से उसकी निर्णायक क्षमता और नीर-क्षीर विवेक की तारीफ करता है। जनता अपनी तारीफ सुनकर फूली नहीं समाती और उसकी तारीफ से प्रसन्न होकर दुबारा उसी को सत्ता की कुर्सी पर सवार करा देती है।

आज चारों ओर तारीफों की बाढ़ है। दुकानदार अपने माल की तारीफ करते नहीं थकता। ठेकेदार इंजीनियर की, वकील जज की, बाबू अफसर की, अफसर मंत्री की, विद्यार्थी परीक्षक की और नेता बड़े नेता की तारीफ करते नहीं अघाते। प्रेमी प्रेमिका की तारीफ करने तथा विवाहित पुरुष दूसरों की पत्नी व अपने बच्चों की तारीफ में कोई कोर-कसर नहीं छोड़ते। पंडों, पुजारियों ने तो भगवान की तारीफ का ठेका ले ही रखा है।

कवि सम्मेलनों और मुशायरों में तारीफ का प्रचलन कुछ ज्यादा ही है। कवियों और शायरों में एक अलिखित समझौता सदा से रहा है - मैं तुम्हारी शायरी पर दाद दूँगा, तुम मेरी कविता पर कहना, "वाह, वाह! खूब! बहुत खूब!! एक बार फिर!!!"

दफ्तर में वह बाबू या छोटा अफसर क्या जो अपने बड़े अफसर की तारीफ करना न जाने। इसके प्रत्यक्ष, अप्रत्यक्ष सभी लाभ हैं। छुट्टी चाहिए तो बॉस को मक्खन लगाएँ। किसी गुप्तचर की भाँति बॉस के किसी ऐसे गुण या प्रतिभा का, जिसका पता उसे भी न हो, पता लगाइए और फिर देखिए मजा! बिना किसी प्रार्थनापत्र के झट से छुट्टी मंजूर! अक्षम बॉस की प्रशासनिक क्षमता और बेईमान बॉस की ईमानदारी के गुण गाइए। ठाठ से बैठे रहिए या निश्चिंत घूमिए। अपने को तुलसीदास और बॉस को राम मानकर भक्तिभाव से उसकी प्रशंसा के भजन गाइए। फिर देखिए दफ्तर रूपी फाइलों के भवसागर से वे आपको कैसे पार लगाते हैं। वर्ष के अंत में अपनी गोपनीय रिपोर्ट में सबसे अधिक दक्ष, ईमानदार और मेहनती लिखवाइए।

घर में पत्नी की तारीफ कीजिए। पत्नी की बनाई कच्ची सब्जी और जली रोटी की तारीफ करने और उसे खाने की क्षमता यदि आपके अंदर नहीं तो, जनाब माफ कीजिए, उसे अपना भेजा खिलाने के लिए तैयार रहिए।

कुछ लोगों की दूसरों की तारीफ करने की जन्मजात प्रवृत्ति होती है। वे तारीफ करने के लिए इस कदर लालायित रहते हैं कि जब तक वे किसी की तारीफ नहीं कर लेते, तब तक बेचैन रहते हैं। यदि तारीफ करने से लाभ की संभावना हो तो तारीफ करने के लिए बेचैनी और बढ़ जाती है। एक महाविद्यालय में एक प्रधानाचार्य ने कार्यभार ग्रहण करते हुए अपना परिचय दिया, "बंदे को चिराग अली कहते हैं।" एक अध्यापक ने तपाक से उनकी तारीफ करते हुए कहा, "हुजूर, चिराग अली को मारिए गोली। आप तो रोशन अली हैं। आफताब अली हैं।" अब आप ही बताइए, ऐसी तारीफ पर कौन न हो कुर्बान!

कुछ लोग ऐसे भी हैं जो अपनी तारीफ करने के लिए मजबूर हैं। उन्हें अपने मुँह मियाँ मिट्ठू बनना ही पड़ता है। रेडियो और टी.वी. विज्ञापन-दाता भी इसी श्रेणी में आते हैं। वे अपने उत्पादों की तारीफ इस ढंग से करते हैं कि हम न तो उनके तारीफ करने के ढंग की तारीफ किए बिना ही रह सकते हैं और न ही उनका उत्पाद खरीदे बिना।

तारीफ की तारीफ सुनकर मैं भी एक सज्जन से उनकी तारीफ पूछ बैठा। वे कहने लगे, "अरे साहब, हमारे बालों को देखकर आपको नहीं लगता कि हम पक्के राष्ट्रभक्त हैं।" बालों से राष्ट्रभक्ति का क्या संबंध हो सकता है, मैं इस बारे में सोच ही रहा था कि वे तपाक से बात आगे बढ़ाते हुए बोले, "नहीं समझे न? अच्छा हम तुम्हें समझाते हैं। हमारे तिरंगे बालों (जो कुछ काले, कुछ सफेद और कुछ रँगने से केसरिया हो गए थे) से क्या राष्ट्रीयता नहीं झलकती? हम अँग्रेजी से एम.ए. हैं इसलिए नाम अँग्रेजी में लिखते हैं। किंतु बोलते हिंदी में हैं। उर्दू से भी परहेज नहीं है। क्या भाषा से भी हम राष्ट्रवादी नहीं हैं। देश की सारी समस्याओं का हल हमारे पास है। बड़े-बड़े प्रशासनिक अधिकारी हमसे पूछकर प्रशासन चलाते हैं। मंत्री वगैरह भी हमसे सलाह करते रहते हैं। केवल हमारी पत्नी और जान-पहचान के लोग ही हमारी बातों पर संदेह करते हैं। आपको तो कम से कम संदेह नहीं करना चाहिए।" इतना कह कर वे चुप हो गए। लोगों को उनकी बात पर संदेह हो या न हो, लेकिन मुझे उनकी बात पर संदेह न करने में ही अपनी भलाई दिखाई दी।

कल बाजार जाते हुए अपनी गली में ही जनाब दिलजला 'भटकन' मिल गए। दुआ-सलाम के बाद हम उनसे बचना ही चाह रहे थे कि वे हमारी कमीज के बटन पकड़ते हुए बोले, "मियाँ, सुनते जाइए। ताजी गजल का एक टुकड़ा पेश है। जब तक मैं सँभलता, उन्होंने टुकड़ा मेरी ओर दाग दिया -

रातरानी से खा गया धोखा,
आओ, अब गमलों में कैक्टस उगाएँ।

साहित्य और उसके मर्म से अनजान मैं यह सुनकर चौंका। रातरानी? कौन रातरानी? चलो मानो वह कोई भी हो। मगर ये 'भटकन' साहब उससे क्या धोखा खा गए? और फिर उस धोखे से कैक्टस का क्या संबंध? मान लिया कोई संबंध है भी तो ये साहब गमलों में कैक्टस उगाएँ या झाड़-झंखाड़, मुझे इससे क्या? और ये हजरत मुझे क्यों उलझा रहे हैं? मेरा चिंतन जारी ही था कि उन्होंने टोक दिया, "अरे मियाँ, अब क्या दाद भी न दोगे?" जी में तो आया कि इन्हें दाद के साथ-साथ खाज-खुजली भी दे दूँ, लेकिन उन्हें पास की चाय की दुकान की ओर बढ़ते देख मैंने उनका इरादा भाँप लिया। अंदर से खिन्न और बाहर से प्रसन्न, कद्रदान जैसी मुद्रा बनाकर मैंने कहा, "वाह साहब, वाह! क्या चीज पेश की है। खूब, बहुत खूब।" परिणाम अच्छा रहा। उन्होंने मुझे गरमागरम चाय का प्याला और ताजा बर्फी के दो टुकड़े पेश कर अपने एहसान फरामोश न होने का पक्का सबूत दिया। ऊपर से मेरी कद्रदानी की जो तारीफ की सो अलग।

कभी-कभी खाली तारीफों से काम नहीं चलता तो तारीफों के पुल बाँधे जाते हैं। पुल बाँधने वाले बिना असफलता की डुबकी के अपने लक्ष्य के पास खटाखट पहुँच जाते हैं। इन पुलों की विशेषता यह भी होती है कि बनने के बाद ये प्रायः हमारे ठेकेदारों और इंजीनियरों के बनाए पुलों की भाँति जल्दी नहीं टूटते। वैसे हमारे धर्म के ठेकेदार संप्रदायों को जोड़ने वाले पुल के निर्माण का भरसक प्रयास कर रहे हैं किंतु उन्हें अभी तक इसमें सफलता नहीं मिल पाई है। यदि कभी ऐसा हो जाए तो यह वाकई काबिले तारीफ होगा।

तारीफ करने और करवाने का चस्का जब देवताओं को भी लगा और मनुष्यों को भी, तो पशु इसमें पीछे क्यों रहते। संस्कृत का एक श्लोक याद आ रहा है -

ऊष्ट्राणाम् लग्नवेलायाम् गर्दभः स्तुतिपाठकः
परस्परम् प्रशंसन्ति अहोरूपमहोध्वनिः
(ऊँट के विवाह पर गधा स्तुतिवाचक है। दोनों एक दूसरे की प्रशंसा कर रहे हैं।
गधा ऊँट से कह रहा है, "अहा! आपने क्या रूप पाया है!" ऊँट गधे से कह रहा है,
"अहा! आपका कंठ कितना मधुर है!")

पशु भी जब इतनी समझ रखते हैं तब मनुष्य तो आखिर मनुष्य ही है। पहले तो वह पशुओं से आगे रहे, नहीं तो कम से कम पीछे भी क्यों रहे। मैं भी एक मनुष्य हूँ। मुझे अपनी तारीफ करने और करवाने की ललक उठती है। पहले झिझकता हूँ कि किसी से कैसे कुछ कहूँ। किंतु फिर अपने को रोक भी नहीं पाता हूँ। इसलिए विवशता में कहना ही पड़ता है कि आओ, मेरी तारीफ करो!

तो पढ़ रहे हैं न अब आप मेरी शान में कसीदे?


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में टी. आर. चमोली की रचनाएँ