डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कहानी

बरसों बरस से नहीं हँसे जो लोग
क्रिस्टोस इकोनोमोऊ

अनुवाद - यादवेंद्र


नौकरी से छँटनी... इसमें भी उनका कुछ भला निहित है। आप लोगों को जानने पहचानने लगते हो... कमरे से बाहर निकलते हो, चाहे बालकनी पर सिगरेट पीने के बहाने ही हो, और सामने देख कर कोई आपसे कह बैठे : "ओ, तुमने खबर सुनी? कंपनी ने लाइकोस को नौकरी से निकाल दिया।"

"लाइकोस? कौन लाइकोस, वही जो आवारा किस्म का था?" ऐसा कहते ही सब आपको घूर घूर कर ताकने लगते हैं कि तभी बीच से कोई आवाज फूटती है : "अरे नहीं भाई, लाइकोस जो इलेक्ट्रीशियन का काम करता था... लंबी छरहरी कद काठी, लंबे झूलते हुए केश जिसके हैं... और हाँ, वह थोड़ा लंगड़ाता भी है।"

आप इसके बाद उस लाइकोस के बारे में सोच कर उसकी शक्ल ध्यान में लाने की कोशिश करने लगते हैं - पर आप चीन्ह नहीं पाते, उसकी शक्ल ध्यान नहीं आ पा रही है। यहाँ तीन सौ लोग काम करते हैं, भला किस किस को पहचानेंगे। लोगबाग लाइकोस के बारे में ऐसे चर्चा कर रहे हैं जैसे उसकी मौत हो गई हो पर आप हैं कि अपना मुँह बंद ही रखना मुनासिब समझते हैं - लाइकोस, बेहद नेक इनसान, खूब लगन के साथ जुट कर काम करने वाला। उसके दो बच्चे हैं और बीवी की नौकरी गए अभी तीन महीने हुए ही हैं... कर्ज के लिए गिरवी अलग। बीवी शायद किसी कपड़े या जूते की दुकान पर काम करती थी।

इस बीच किसी ने राय व्यक्त की कि लाइकोस अपने काम के प्रति बेहद लापरवाह था... बकबक बहुत करता था और दिनभर अड्डेबाजी में दूसरों की बाल की खाल निकाला करता था। शुरू में वह ऐसा नहीं था पर बाद में हालातों के बदलने के साथ उसका स्वाभाव भी बदलता चला गया - इसी बर्ताव के कारण उसको चेतावनी भी दी गई थी पर कुछ असर हुआ नहीं। अचानक लोगों ने बातचीत करनी बंद कर दी, किसी ने गहरी साँस ली और बात बदलते हुए बोला : "साला अभी जून महीना आया है और देखो मौसम कैसा तप रहा है।"

"अभी सितंबर आने दो, फिर देखना हममें से कितने जने यहाँ बचते हैं... यह धुआँ उड़ाना, गप्पें मारना, कॉफी की चुस्की लेना - देखते हैं कितनों के नसीब में लिखा है।" कहते कहते उन्होंने एक एक कर अपने कागज के कप कूड़ेदान में फेंके और सिगरेट सुलगाते हुए अपने अपने पिंजरों की ओर चल पड़े। उनके उठ जाने के बाद आप अकेले रह गए, दूसरी सिगरेट सुलगाई और सामने दौड़ती कारों को और तारों के इर्दगिर्द मँडराती चिड़ियों को निहारने लगे। सामने के शहतूत के पेड़ के नीचे एक कुत्ता सो रहा था। एक औरत अपनी बालकनी में निकल कर आई और साथ में लाए अपने टेबल क्लॉथ के ऊपर का कूड़ा बाहर सड़क पर झाड़ गई। सड़क किनारे की पगडंडी पर एक लड़का अपनी मोटरबाइक पर निकला, उसके पीछे छड़ी टेकता हुआ एक बूढ़ा... उसके पीछे पीछे डेनिम की ऊँची शॉर्ट और खुली पीठ वाले टॉप पहने दो लड़कियाँ आईं, उनकी पीठ पहले से ही धूप से भूरी पड़ चुकी हैं। आपको दुनिया अपनी धुरी पर अलमस्त घूमती दिखाई पड़ती है - अपने शोर शराबे में डूबी... हृदयहीन... किसी की फिक्र न करने वाली... और आप खुद से कहते हो, भली चंगी तो है ये दुनिया। मन के कहीं गहरे अंदर आप इस बात से गदगद भी होते हैं कि गनीमत है आपका नाम लाइकोस* नहीं हुआ, आप लंबे छरहरे भी नहीं हैं, न आपके केश लटकते हुए लंबे हैं... और न आप लंगड़ा कर चलते हैं... आपकी बीवी भी किसी कपड़े या जूते बेचने वाली दुकान से हाल फिलहाल निकाली नहीं गई है। आप इत्मीनान से लंबी साँस खींचते हैं, सिगरेट सुलगाते हैं और काम पर लौट पड़ते हैं। ...इतना ही नहीं लौटते कदमों के साथ आप जी जान लगा कर वैसा सबकुछ कर लेने का संकल्प करते हैं जिससे लाइकोस जैसी स्थिति आपके सामने कभी न पेश आए। मन ही मन आप ठान लेते हो कि भेड़ियों से भरी दुनिया में आपको एक अदद भेड़िया नहीं बनना, आप दुर्बल भेंड़ बने रह कर खुश हैं... बेचारी निरीह सी एक भेंड़।

अगले दिन... या शायद उसके भी अगले दिन लाइकोस अपने साजोसामान उठाने और सबको दुआ सलाम और अलविदा करने आया। इत्तेफाक था आप उस दिन भी बालकनी में ही खड़े थे कि आवाज आई : "देखो ...देखो लाइकोस आया है... कल इसी शख्स की नौकरी से छँटनी कर दी गई थी।" आप नजर घुमा कर देखते हो - वह शख्स सामने की सीढ़ियों पर चढ़ रहा था, सुस्त भारी कदम। आप जवाब देते हैं : "यही है लाइकोस? ...लाइकोस यही है? ...मैं तो इसको जानता हूँ।"

तभी आपको पिछले साल जनवरी की वह बर्फीली रात याद आती है - हो सकता है जनवरी न हो फरवरी हो। आप काम निबटाने के चक्कर में पर देर तक रुके हुए थे और जब फारिग होकर पार्किंग में पहुँचे तो देखा आपकी कार बर्फ से पूरी तरह ढकी हुई थी - कार पर कम से कम आठ दस इंच बर्फ की मोटी परत। किंकर्तव्यमूढ़ होकर आप उस हाँड़ कँपाती ठंड में कुछ देर तक चुपचाप असहाय से खड़े रहे, सामने चमकती अनछुई बर्फ को निहारते रहे... फिर सोचने लगे अफसोस कि इतनी सुंदर संरचना को तोड़ना फोड़ना पड़ेगा। कोई उपाय नहीं, यह तो करना ही होगा आपको। बर्फ की परत हटानी ही पड़ेगी, कार का गेट खोलना ही पड़ेगा, अंदर जाकर इंजिन स्टार्ट करना ही होगा तभी आप वहाँ से प्रस्थान कर पाएँगे। देर तक काम करने के कारण आपका शरीर टूट रहा था, लगता था जल्दी से घर पहुँचें, कुछ पेट में डालें, रजाई में घुसें, थोड़ी देर टीवी देखें, दिन भर की सारी फजीहतें भूल जाएँ और तसल्ली से सो रहें - गहरी, स्वप्नरहित नींद में। आपने सामने के शीशे से बर्फ हटाने का उपक्रम शुरू किया पर फौरन आपको पता चल गया कि नंगे हाथों बर्फ हटाने से हाथ जम कर पत्थर बन जाते हैं। आप लाचार होकर वहीं खड़े होकर अपने हाथ रगड़ने लगते हो कि शायद इसी से कुछ ताप मिले और आपको निरंतर लगता रहता है कहीं आपका दिल भी हाथ की तरह जम कर पत्थर न बन जाए। इसी बीच उस मरघट जैसे सुनसान में कोई इनसान पास आता हुआ दिख जाता है - सिर पर टोपी लगाए लंबा छरहरा इनसान, गले में मफलर लपेटे और हाथों में दस्ताना डाले हुए। पास आकर वह बोला : "क्या बात है, दोस्त?"

आपने अपनी मुश्किल बता दी। वह अपनी कार तक गया और उसको स्टार्ट कर के कुछ ऐसे खोल हटा दिए जिससे निकलती गर्म हवा सीधे आपके विंडस्क्रीन पर पड़े। देखते देखते उसने हाथ बढ़ा कर आपकी विंडस्क्रीन से मुलायम पड़ती बर्फ हटानी शुरू कर दी। सामने के शीशे के बाद उसने बाएँ दाएँ खिड़कियों के शीशे भी वैसे ही साफ किए और आप इत्मीनान से अपनी कार के अंदर बैठे बैठे पूरी खामोशी के साथ उसको काम करते देखते रहे। आप यह जरूर अचरज करते रहे कि इस इनसान को एक निहायत अजनबी की इस कदर मदद करने की आखिर क्या पड़ी है - कौन है यह आदमी, देखने में तो आपकी ही तरह मरियल सा लग रहा है। वाइपर उठा कर जब उसने विंडस्क्रीन पूरी तरह साफ कर लिया तब लगभग रटी रटाई शैली में यह बोलते हुए कि "ऐसे मौसम में गाड़ी सावधानी से चलाना", अचानक मुड़ा और हाथ हिला कर अभिवादन करता हुआ वहाँ से चलता बना। यह सब इतनी फुर्ती से हुआ कि आप उसको शुक्रिया भी नहीं कह पाए क्योंकि उसकी बिनमाँगी मदद ने आपको इतना अभिभूत कर दिया था कि आपको समझ नहीं आ रहा था करें तो क्या करें। सामने भले ही कुछ न बोले हों पर घर के पूरे रास्ते आप उसके बारे में ही सोचते रहे... घर पहुँचे और कामों में इतने मसरूफ हो गए कि उसका खयाल मन से धीरे धीरे निकल गया। विस्मृति का यह पहला या इकलौता मामला नहीं था, लोगों को और घटनाओं को अपने जीवन में आप अक्सर इसी तरह हमेशा भूलते आए हैं।

और अब आप उसी शख्स को एक एक सीढ़ी सुस्त चाल से चढ़ते देख रहे हो... टाँगें घसीटते हुए। उस बर्फीली रात में आँखों के सामने इतनी देर रहने पर भी आपकी नजर उसके लंगड़ाने पर नहीं गई थी। आपको इतने दिनों बाद आज एहसास हो रहा है कि आपने एक भचकते हुए चलने वाले इनसान से मदद ली थी और शुक्रिया तक नहीं कहा था। आपके मन में धुकधुकी होती है, क्या अब आपको नीचे उतर कर उसके पास जाना चाहिए... कुछ बातचीत करनी चाहिए? उस समय भले ही रह गया हो पर अब उसके पास जाकर पुराने वाकये की याद दिला कर शुक्रिया अदा करने का फर्ज तो बनता ही है। देर आयद दुरुस्त आयद, क्या हुआ जो उसका नाम मालूम न हो...

यन्निस... कॉस्टस... निकोस... तकिस... कुछ भी हो सकता है उसका नाम।

ये बातें आप सोच रहे हो कि अब आपको करनी चाहिए... पर आप हैं कि करेंगे कुछ भी नहीं... यहाँ तक कि उसके पास तक जाकर कुछ बातचीत ही कर लें।

बात... आखिर क्या बात करें?

सो, आप बालकनी पर यथावत खड़े रहते हो... एक सिगरेट सुलगाते हो और टुकुर टुकुर सामने निहारते रहते हो। कुछ मिनटों बाद अंदर से एक बड़ा बक्सा थामे वह बाहर आता है। सीढ़ियों से नीचे उतर कर वह आसपास इस तरह देखता है जैसे उसको मालूम न हो किधर या कहाँ जाना है... सामने खड़ी ऊँची ऊँची इमारतों को ऊपर से नीचे तक निहारता है। इस बीच आपकी नजरें अचानक उसके चेहरे पर पड़ जाती हैं। ...और पलभर में आप को कँपकँपी छूट जाती है - उसका चेहरा तो बर्फ जैसा एकदम झक सफेद है। आज तक के जीवन में आपने कोई भी इनसान इस तरफ विवर्ण चेहरे वाला नहीं देखा था। आप दुबारा पाँव से सिर तक सिहर जाते हो। फौरन आप अपनी सिगरेट परे फेंकते हो और नीचे सीढ़ियों की ओर बदहवासी में भागते हो... यहाँ तक कि लिफ्ट के पास तक जाने की जहमत भी नहीं उठाते। वह अपना बक्सा एक बड़े ट्रंक के अंदर रखने लगा है और वहाँ से वह कहीं दाएँ बाएँ निकल जाए उस से पहले आप उस तक पहुँच जाना चाहते हो। उखड़ती साँसों के बावजूद पास पहुँच कर आप उस से उस बर्फीली रात की बावत बतियाने लगते हो।

"तुम्हें उस बर्फीली रात का वाकया याद है?", आप पूछ बैठते हो...

"तुम्हारे पास अब भी वह डस्टपैन है? ...ऐसा नहीं कि जून के महीने में अभी उसकी दरकार है पर पता नहीं किस घड़ी किसी छोटी और मामूली सी चीज की जरूरत पड़ जाए ...क्यों, सही नहीं कह रहा?"

आप जो कुछ भी मुँह में आए बोलते जा रहे हो... वह सब कुछ सुन रहा है, जाने कितना पल्ले पड़ रहा है मालूम नहीं। उलझन में वह अपने दोनों हाथ आपस में रगड़ने लगता है ...वैसे भारी बोझ उठाने के कारण उसकी हथेलियाँ सूज गई हैं, लाल पड़ गई हैं। उसका चेहरा अब भी झक सफेद बना हुआ है - किसी कोरे पन्ने जैसा सफेद। उस सफेद पन्ने पर उसका मुँह ऐसा दिख रहा है जैसे पेन्सिल से किसी ने खाँचे बना दिए हों।

"हाँ..." सिर हिला कर उसने अब हामी भरी... "अब याद आ गया... नीले रंग का निसान।"

"काला... नीला नहीं काला।"

कुछ पलों तक वह आपको ऐसे घूरता है मानों आप जितने दीखते हैं उस से कहीं ज्यादा लल्लू हैं। फिर बोलता है : "ओके, फिर मिलते हैं। "यह कहते हुए वह अपना ट्रंक लेकर सामने खड़ी कार में सवार हो जाता है।

उसके इस बर्ताव को देखने के बाद आपके मन में यह क्रेजी आइडिया आता है।

"सुनो, हम ऐसा क्यों न करें कि पिरेयस तक साथ साथ चलें..." आप उचक कर प्रस्ताव करते हो, "और हाँ ड्रिंक्स मेरी तरफ से रही... डस्टपैन और जो कुछ भी उस रात तुमने मेरे लिए किया, उसके एवज में।"

ज्यादा उम्मीद इस बात की है कि वह आपका प्रस्ताव फौरन ठुकरा देगा... आखिर अभी अभी उसको नौकरी से निकाल दिया गया है... और अपने भविष्य के बारे में सोचने को उसके मन में सैकड़ों विचार होंगे, उनमें से किसी पर फैसला भी करना होगा। वह इन जरूरी उलझनों के बीच घिरा हुआ है, भला किसी ऐसे अजनबी के साथ मटरगश्ती करने भला क्यों जाएगा जिसको उसका नाम तक नहीं मालूम।

पर वह मेरे प्रस्ताव पर राजी भी हो सकता है... हाँ, वह हाँ भी कर सकता है...

इसी दुविधा के बीच आपके मन में एक और आइडिया जन्म लेता है, पहले से ज्यादा क्रेजी।

"तुम यहीं ठहरो... मैं यूँ गया और यूँ आया, बस दस मिनट में।"

आप अपनी कार स्टार्ट करते हो और छू-मंतर हो जाते हो - ऑफिस में तमाम चीजें अस्त-व्यस्त और खुली, कोई देखे तो अचरज करे कि सब कुछ इस तरह खुला छोड़ कर तुम कहाँ गायब हो गए।

घर पहुँच कर आपने अपना कूलर बॉक्स उठाया, शराब की दो बोतलें डालीं और बर्फ भर लिया... खाने को कुछ ब्रेड, चीज और टमाटर - जो कुछ भी सामने दिखा रख लिया। हवा की रफ्तार से लौटते हुए आपके मन में निरंतर यह खटका बना रहा कि लाइकोस कहीं चला न गया हो। पर उसको कार के बोनट से टिक कर सिगरेट पीते हुए देख कर आपको तसल्ली हुई - पास पहुँच कर देखा तो उसका चेहरा झक सफेद अब भी था।

"चलो। ...अब हम चलते हैं।"

पिरेयस के रास्ते में आपकी उसके साथ कुछ छिटपुट बातें होती रहीं - बोलते हुए आप कनखियों से उसके चेहरे के भाव पढ़ने की कोशिश करते रहे... आप मन ही मन लगातार सोचते रहे कि कितना अच्छा होता उसके गालों को भी छू पाते जिस से उसके चेहरे पर कुछ तो लाली आती। वहाँ पहुँच कर आप नीचे उतर कर समुद्र तट तक पहुँच जाते हो... और धीरे धीरे कूलर बॉक्स का सामान एक एक कर के बाहर निकाल देते हो।

ड्रिंक के साथ कुछ कुछ खाते हुए आप देखते हो कि उसके विवर्ण चेहरे की रंगत लौटने लगी है... धीरे धीरे वह इतना सहज हो जाता है कि अपने बचपन की बातें बताने लगता है... कि कैसे लोगबाग उसके नाम को लेकर अक्सर उसको छेड़ते थे - उसको देखकर बोलते, "देखो भेड़िया आया... भेड़िया आया..." और इधर उधर छुपने का नाटक करते।

"इसी छेड़छाड़ में मेरी अपनी पत्नी से मुलाकात हुई।", उसने हँसते हुए बताया। एक हैलोवीन पार्टी में वह लिटल रेड राइडिंग हुड (पश्चिम में प्रचलित एक परीकथा की नायिका लड़की जो अपनी दादी की तलाश में जंगल में जाती है तो रास्ते में उसका सामना एक भारी भरकम भेड़िये से हो जाता है) बनी थी - यह बताते हुए वह आपकी आँखों में झाँकते हुए अनायास ठहाका लगा कर हँस पड़ता है। आप भी हँस पड़ते हो... दोनों मिलकर देर तक ठहाके लगाते हो... आप तो ऐसे ठहाके लगते हो जैसे बरसों बरस से हँसे ही नहीं।

और जैसे ही आप दूसरी बोतल खोलते हो वह आपसे भी कुछ सुनाने को कहता है...

"कोई घटना तुम भी सुनाओ" उसने कहा... "मुझे हँसी खुशी पर जो खतम हो ऐसी कोई कहानी सुनाओ।"

आप नई सिगरेट सुलगाते हो, मुँह से धुएँ का एक छल्ला बाहर फेंकते हो... हाथ में ग्लास थामे उसके अंदर तैर रही बर्फ के आपस में टकराने की आवाज सुनते हो। सोचते हो उसको कह दो कि कोई ऐसी कहानी नहीं होती जिसका कभी अंत होता हो - सुखद हो या दुखद। पर यह बात जुबान तक आते आते रुक जाती है, जाने उसको यह जवाब कैसा लगे। उसको धक्का न लगे यह सोच कर आप चुप्पी साध लेते हो। समुद्र से आती बयार में एक गंध जज्ब है, और लहरें चट्टानों पर सिर पटक रही हैं। समुद्र का पानी काला दिख रहा है और उसमें तैरते जहाजों के अंदर से झाँकती रोशनी काले पानी पर फिसलती दिखाई देती है। एक गहरी साँस खींच कर आप बोलने लगते हो : "छँटनी... इनमें भी कुछ अच्छाई है... आप लोगों को जानने पहचानने लगते हो। आप घर से बाहर कदम निकालते हो... और कहीं न भी हो तो सिगरेट फूँकने के बहाने से बालकनी पर ही सही... और सामने से कोई बोल पड़ता है : "तुमने आज की खबर सुनी? ...लाइकोस को नौकरी से निकाल दिया गया..."

* ग्रीक भाषा में लाइकोस भेड़िये के लिए प्रयुक्त होता है।

End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में क्रिस्टोस इकोनोमोऊ की रचनाएँ