डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

उठे बादल, झुके बादल
हरिनारायण व्यास


उधर उस नीम की कलगी पकड़ने को
झुके बादल।
नयी रंगत सुहानी चढ़ रही है
सब के माथे पर।
उड़े बगुल, चले सारस,
हरस छाया किसानों में।
बरस भर की नयी उम्‍मीद
छायी है बरसने के तरानों में।
बरस जा रे, बरस जा ओ नयी दुनिया के
सुख सम्‍बल।
पड़े हैं खेत छाती चीर कर
नाले-नदी सूने।
बिलखते दादुरों के साथ सूखे झाड़
रूखे झाड़।
हवा बेजान होकर सिर पटकती
रो रही सरसर।
जमीं की धूल है बदहोश
भूली आज अपना घर।
किलकता आ, बरसता आ,
हमारी ओ खुशी बेकल।
उधर वह आम का झुरमुट
नहीं हैं पास में पनवट।
किलकती कोकिला, बेमान हो कर देखती जब
चाँद मुखड़े पर घटा-सी छा गयी है लट।
खड़ी हैं सिर लिये गागर
तुम्‍हारी इन्तजारी में
दरद करती कमर, दिल काँपता है
बेकरारी में।
जहाँ की बादशाही भी जहाँ पर
सिर झुकाती है
उन्‍हीं कोमल किशोरी का
दुखा कर दिल
कभी रस ले सकोगे क्‍या अरे बेदिल?
उठे बादल, झुके बादल।

 


End Text   End Text    End Text