डाउनलोड मुद्रण

अ+   अ-

कविता

धूप-ताप
पुष्पिता अवस्थी


धूप
निचोड़ लेती है
देह के रक्त से पसीना

माटी से बीज
बीज से पत्ते
पत्ते से वृक्ष
और वृक्ष से
निकलवा लेती है - धूप
सबकुछ

धूप
सबकुछ सहेज लेती है
धरती से
उसका सर्वस्व
और सौंप देती है - प्रतिदान में
अपना अविरल स्वर्णताप
कि जैसे -
प्रणय का हो यह अपना
विलक्षण अपनापन

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में पुष्पिता अवस्थी की रचनाएँ



अनुवाद