डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

औरतें
हरे प्रकाश उपाध्याय


औरतें
धरती पर पाँव नहीं रोप पाती थीं
चार कदम चलना हो तो छह बार गिरती थीं
न जाने कैसी तो थीं औरतें
दुर्गा, काली के रूप में पूजी जाती थीं
मगर धरती पर सीता की नियति ही पाती थीं

माथे पर पति
और बच्चों की जिंदगी
आँखों में समुद्र
और छाती में अमृत ढोये चलती थीं
मगर खुद दिन में सौ-सौ बार मरती थीं

नाराज होना
मना था इनके लिए
होतीं तो गुस्सा
चूल्हे और बरतनों पर उतारती थीं

देख न ले कोई पराया मर्द
घूँघट से ढँककर रखती थीं चेहरा
वैसे कोई किस्सा वैशाली की
नगरवधू का भी है पर
आज चौखट से बाहर
रास्ते पर
उतरी हैं औरतें
मर्दो से आँखें मिला रहीं हैं

औरतें
घेर रही हैं विधानसभा
हवा में उड़ रही हैं
जमीन पर दौड़ रही हैं
उड़नखटोला उड़ा रही हैं
नारे लगा रही हैं
राज चला रही हैं
क्या से क्या हो रही हैं औरतें
आँख निकल रही है गुस्साये मर्दो की...

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में हरे प्रकाश उपाध्याय की रचनाएँ