डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

व्यथा-वृत्त
हरे प्रकाश उपाध्याय


कथित उत्तर-आधुनिक सदी में
वह आदमी
आदमी होने की निराशा भोग रहा था

कहता जा-जाकर हित मित्रों से
कि उसे दुख है, दिक्कत है
जो चाहिए उसकी किल्लत है -
कोई उसकी नहीं सुनता

कि भूखा रह जाता है वह
और उसे कोई नहीं पूछता
कि वह काम करते-करते
थक जाता है
और आराम के लिए
कोई नहीं कहता
कहता कि वह रोता रहता है
तो दुनिया हँसने लगती है
इस बात का उसे दुख है
उसे दुख है कि लोग हँसी को
हँसी की तरह नहीं हँसते
उसे दुख था तो वह निराश था
अपने मन की व्यथा-कथा
उसने सबसे कही

उन सबसे जिन पर उसे
भरोसा था कि
वे उसे प्यार करते हैं
उसने कहा
हाल यही रहा तो
वो नहीं रहेगा
उसने रो-रोकर कहा
कि वह कुछ कर लेगा
कि कोई उसकी नहीं सुनता

वैसे उसकी सुनते तो सब
बल्कि कई तो सुनते हुए
उसके साथ-साथ रोने लगते
मगर जब सचमुच ही
उसकी आत्मा दरकने लगती
तब इगी-दुगी तक हँसने लगते
कि वह नौटंकी कर रहा है
आखिर उसे क्या दुख हो सकता है

सब कुछ तो भरा है उसके यहाँ
यह ठीक था
सब कुछ भरा था उसके यहाँ
लेकिन वह जहाँ भी हाथ डालता
खालीपन ही पाता
लोग उसकी इसी बात का
भरोसा नहीं करते
हालाँकि अपने-अपने जीवन में
सबका यही अनुभव था
लेकिन इसे सार्वजनिक करने को
कोई तैयार न था
सब चाहते तो थे
कि एक-दूसरे के कंधे पर
अपना माथा रखकर
मिल-जुलकर रोएँ
पर सब अपने-अपने कंधे बचाना चाहते
और आँसू तो कतई नहीं दिखाना चाहते
सब दुखी थे और खुश थे
वही दुख को दुख की तरह
कहने और नहीं सहने का
साहस कर रहा था
इसलिए हास्यास्पद हो रहा था
यह बात वह समझ रहा था अच्छी तरह
इसलिए वह जिस-तिस से लड़ पड़ता
गैरो से वह शिकायत करता
मगर अपनों के प्रति
उसका गुस्सा खास था
और खतरनाक था
और चूँकि वह औरों से हटकर था
इसलिए सब उससे हटकर रहना चाहते
इस बात से वह और दुखी था
जब उससे अपना दुख
देखा नहीं गया
और दूसरों का दुख कीचड़ की तरह
उसके सामने फैला ही रहा

घूम-घूमकर अपने सभी हित मित्रों को
वह प्रणाम कर आया
जिनके जो छोटे-मोटे कर्ज थे
चुका आया
जो नहीं चुका सकता था उसके लिए
माफी माँग आया
और गाँव से बाहर नहर के कछार पर
जहर खाकर
छटपटाकर मर गया
वह मर गया तो भोज हुआ
उस भोज में
अपने-पराये
कौए, बिलार, भालू, राक्षस सबने
डकार कर जलेबी-पूरी खायी

एक ब्राह्मण ले गया उसकी बछिया खोलकर!

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में हरे प्रकाश उपाध्याय की रचनाएँ