डाउनलोड मुद्रण

अ+   अ-

कविता

मढ़ी प्राइमरी स्कूल के बच्चे
नरेश सक्सेना


उनमें आदमियों का नहीं
एक जंगल का बचपन है
जंगल जो हरियाली से काट दिए गए हैं
और अब सिर्फ
आग ही हो सकते हैं

नहीं
बच्चे फूल नहीं होते
फूल स्कूल नहीं जाते
स्कूल जलते हुए जंगल नहीं होते।

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में नरेश सक्सेना की रचनाएँ