डाउनलोड मुद्रण

अ+   अ-

कविता

डूबना
नरेश सक्सेना


खेलता हुआ बच्चा
जाने कब गिरा छटपटाया और डूब गया

देखते रहे सब
पर्वत के पीछे धीरे-धीरे डूबता हुआ सूरज
पानी में सदियों से डूबी चट्टान।

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में नरेश सक्सेना की रचनाएँ