डाउनलोड मुद्रण

अ+   अ-

कविता

साँकल खनकाएगा कौन
नरेश सक्सेना


दिन भर की अलसाई बाँहों का मौन,
बाँहों में भर-भर कर तोड़ेगा कौन,
बेला जब भली लगेगी।

आज चली पुरवा, कल डूबेंगे ताल,
द्वारे पर सहजन की फूलेगी डाल,
ऊँची हर डाल को झुकाएगा कौन
चौथे दिन फली लगेगी।

दिन-दिन भर अनदेखा, अनबोली रात
आँखों की सूने से बरजोरी बात,
साँझ ढले साँकल खनकाएगा कौन,
कितनी बेकली लगेगी।

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में नरेश सक्सेना की रचनाएँ