डाउनलोड मुद्रण

अ+   अ-

कविता

सृजन के क्षण
कुँवर नारायण


रात मीठी चाँदनी है,
मौन की चादर तनी है,

एक चेहरा ? या कटोरा सोम मेरे हाथ में
दो नयन ? या नखतवाले व्‍योम मेरे हाथ में ?

प्रकृति कोई कामिनी है ?
या चमकती नागिनी है ?

रूप-सागर कब किसी की चाह में मैले हुए ?
ये सुवासित केश मेरी बाँह पर फैले हुए :

ज्‍योति में छाया बनी है,
देह से छाया घनी है,

वासना के ज्‍वार उठ-उठ चंद्रमा तक खिंच रहे,
ओंठ पाकर ओंठ मदिरा सागरों में सिंच रहे;

सृष्टि तुमसे माँगनी है
क्‍योंकि यह जीवन ऋणी है,

वह मचलती-सी नजर उन्‍माद से नहला रही,
वह लिपटती बाँह नस-नस आग से सहला रही,

प्‍यार से छाया सनी है,
गर्भ से छाया धनी है,

दामिनी की कसमसाहट से जलद जैसे चिटकता...
रौंदता हर अंग प्रतिपल फूटकर आवेग बहता ।

एक मुझमें रागिनी है
जो कि तुमसे जागनी है।

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में कुँवर नारायण की रचनाएँ



अनुवाद