डाउनलोड मुद्रण

अ+   अ-

कविता

इतना कुछ था
कुँवर नारायण


इतना कुछ था दुनिया में
लड़ने झगड़ने को
पर ऐसा मन मिला
कि जरा-से प्यार में डूबा रहा
और जीवन बीत गया

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में कुँवर नारायण की रचनाएँ



अनुवाद