डाउनलोड मुद्रण

अ+   अ-

कविता

इस रूट की सभी लाइनें व्यस्त हैं
सुशांत सुप्रिय


देह में फाँस-सा यह समय है
जब अपनी परछाईं भी संदिग्ध है
'हमें बचाओ, हम त्रस्त हैं' -
घबराए हुए लोग चिल्ला रहे हैं
किंतु दूसरी ओर केवल एक
रेकार्डेड आवाज उपलब्ध है -
'इस रूट की सभी लाइनें व्यस्त हैं'

न कोई खिड़की, न दरवाजा, न रोशनदान है
काल-कोठरी-सा भयावह वर्तमान है
'हमें बचाओ, हम त्रस्त हैं' -
डरे हुए लोग छटपटा रहे हैं
किंतु दूसरी ओर केवल एक
रेकार्डेड आवाज उपलब्ध है -
'इस रूट की सभी लाइनें व्यस्त हैं'

बच्चे गा रहे वयस्कों के गीत हैं
इस वनैले-तंत्र में मासूमियत अतीत है
बुद्ध बामियान की हिंसा से व्यथित हैं
राम छद्म-भक्तों से त्रस्त हैं
समकालीन अँधेरे में
प्रार्थनाएँ भी अशक्त हैं...
इस रूट की सभी लाइनें व्यस्त हैं

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में सुशांत सुप्रिय की रचनाएँ



अनुवाद