डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

रहस्य-लोक
सुरजन परोही


कवियों के
दिल से निकली हुई कविता
दिल की पुकार
अभिलाषाओं की आवाज

कविता
कागज के टुकड़ों का
सिर्फ शब्द भर नहीं
बाजार में -
कविता की किताब
बाजार का हिस्सा
घर-भीतर
आँखों में -
'कविता'
जीवन का रहस्य-लोक

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में सुरजन परोही की रचनाएँ