डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

हिंदी हमारी
सुरजन परोही


हिंदी न आगे रखो
न पीछे
साथ-साथ रखो
घर-बाहर-दफ्तर में
मन के घर में, वाणी में
परदेस में
हर भाषा सीख
पर अपनी भाषा मत भूल
मातृभाषा नाश
तो धर्म-जाति नाश

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में सुरजन परोही की रचनाएँ