डाउनलोड मुद्रण

अ+   अ-

कविता

मातृभाषा
केदारनाथ सिंह


जैसे चींटियाँ लौटती हैं
बिलों में
कठफोड़वा लौटता है
काठ के पास
वायुयान लौटते हैं एक के बाद एक
लाल आसमान में डैने पसारे हुए
हवाई-अड्डे की ओर

ओ मेरी भाषा
मैं लौटता हूँ तुम में
जब चुप रहते-रहते
अकड़ जाती है मेरी जीभ
दुखने लगती है
मेरी आत्मा

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में केदारनाथ सिंह की रचनाएँ