डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

विनोद
वृंदावनलाल वर्मा


है विनोद बिन जीवन भार
है विनोद बिन जड़ संसार
है विनोद बिन बुद्धि असार
है विनोद बिन देह पहार
है विनोद से बुद्धि विकास
ज्ञान-तंतुओं से परकास
शक्ति कवित्व इसी से निकली
ईश भावना इस से उजली।

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में वृंदावनलाल वर्मा की रचनाएँ