डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

सारा दिन
देवेंद्र कुमार बंगाली


सारा दिन पंछी-सा भटके
शाम हुई डालों से अटके।
        अंधकार ने किया जुगाली
        सूरज ने ये धूप उठा ली
लगा कि ये तारों के लटके।

       ये बादल
       वन
       ये तनहाई,
       पुरवा-पछवा की
       महँगाई,
दोस्‍त ये दुभाषिये निकट के।

       आँखों में,
       बाँहों में
            भर लें,
       मौसम को मनोनीत
       कर लें,
चाँद कभी आए तो छँट के।

 


End Text   End Text    End Text