डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

पदचिह्न
स्वप्निल श्रीवास्तव


गीली गीली पगडंडियों पर साँचे की तरह
छप गए है पदचिह्न
मिट्टी की नींद को तोड़ते हुए ये पदचिह्न
कलाकृतियों की तरह आकर्षित करते हैं

ऐसे करोड़ों पदचिह्न धरती पर उतरते हैं
गीली मिट्टी पर दर्ज करते हैं अपनी उपस्थिति
ये पदचिह्न करोड़ों लोगो के जमीन के पक्ष
में हस्ताक्षर हैं

बिल्कुल ताजे पदचिह्न जैसे अभी ताजे फ्रेम पर
काढ़े गए हों

खुरदुरे फिर भी खूबसूरत पदचिह्नों में दिखाई दे रही है
स्पष्ट एक एक अँगुलियों की लकीरें
कौन पढ़ सकता है इन लिपियों को

महत्वपूर्ण और दुर्लभ पदचिह्न
अनवरत यात्रा पर निकले हुए हैं

जहाँ ये उगे हुए है वहीं रहने दो इन्हें
ये कल हमें सिखाएँगे राह
इन पदचिह्नों को पहन नही सकती
कोई कविता

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में स्वप्निल श्रीवास्तव की रचनाएँ