डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

कुम्भज्वर
धरीक्षण मिश्र


(अमृतध्वनि छंद)

डकडर बिना न जात बा, अइसन बा बरजाद ।
आइल तीर्थ प्रयाग से, कुम्भज्जबर परसाद ॥
कुम्भज्जवर परसादध्धर तन कम्पत्थरथर ।
आँखझ्झरझर नाकसरसर साँस्घ्घरघर ॥
बन्दघ्घर मन मन्दत्‍तर निस्पन्ददि‍दनभर ॥
तारच्छिकत कपारध्धिकत पधार डकडर ॥12॥

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में धरीक्षण मिश्र की रचनाएँ