डाउनलोड मुद्रण

अ+   अ-

बाल साहित्य

पर्वत कहता
सोहनलाल द्विवेदी


पर्वत कहता
शीश उठाकर
तुम भी ऊँचे बन जाओ
सागर कहता है
लहराकर
मन में गहराई लाओ।

समझ रहे हो
क्या कहती है
उठ-उठ गिर गिर तरल तरंग
भर लो, भर लो
अपने मन में
मीठी-मीठी मृदुल उमंग।
धरती कहती-
धैर्य न छोड़ो
कितना ही हो सिर पर भार
नभ कहता है
फैलो इतना
ढक लो तुम सारा संसार

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में सोहनलाल द्विवेदी की रचनाएँ