डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

कैसे चुका पाएँगे तुम्हारा ऋण
नरेश अग्रवाल


रात जिसने दिखाए थे
हमें सुनहरे सपने
किसी अजनबी प्रदेश के

कैसे लौटा पाएँगे
उसकी स्वर्णिम रोशनी
कैसे लौटा पाएँगे
चाँद-सूरज को उनकी चमक
समय की बीती हुई उम्र
फूलों को खुशबू
झरनों को पानी और
लोगों को उनका प्यार

कैसे लौटा पाएँगे
खेतों को फसल
मिट्टी को स्वाद
पौधों को उनके फल

ऐ धरती तुम्हीं बताओ
कैसे चुका पाएँगे
तुम्हारा इतना सारा ऋण।


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में नरेश अग्रवाल की रचनाएँ