डाउनलोड मुद्रण

अ+   अ-

कविता

हँसी
प्रदीप त्रिपाठी


एक ऐसी बेवक्त की हँसी
जो तुम्हारे न होने की खुशी थी
सिर्फ आशावादी...
मन के किसी एक छोर से होकर
गुजर गई
उसका इस तरह से गुजरना
मन की कुंठा के साथ-साथ
कविता में कहने की आदत का छूटने जैसा था
ठीक उसी तरह
जैसे अपरिचित चेहरे को
बार-बार, कई बार देखने पर
लगता हो
इसको मैंने कहीं देखा है
शायद
इसी कारण
हँसी
बेवक्त फूट पड़ी थी

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में प्रदीप त्रिपाठी की रचनाएँ