hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

चाँद की कविता
मंगलेश डबराल


जैसे ही हम चाँद की तरफ देखने को होते हैं कहीं पास से एक कुत्ते के भौंकने की आवाज सुनाई देती है। हम उसे खोजने लगते हैं जबकि चाँद हमारे ठीक सामने चमक रहा होता है आईने की तरह इतना साफ कि हम उसमें अपने चेहरे के गड्ढे और धब्बे भी करीब करीब देख सकते हैं। जब हमारे दिमाग दर्द कर रहे होते हैं वह हमारे ठीक ऊपर चमक रहा होता है प्रेमियों को घरों से निकालकर अज्ञात जगहों में भटकाता रात को असंख्य झरनों की शक्ल में चारों ओर से बहाता हुआ। शमशेर जैसे कवि ने इस ऐतिहासिक चाँद से कुछ देर बातें भी की हैं।

जो लोग चाँद को सभी पहलुओं से जान चुके हैं उन्हें सबसे पहला एहसास उसकी चमक के खत्म होने का हुआ। उन्होंने बारीकी से चाँद की मिट्टी की जाँच की और उसे अपने पास सुरक्षित रख लिया। लेकिन चाँद के बारे में अब भी बच्चे कहीं ज्यादा जानते हैं। जैसे ही कहीं कुत्ते का भौंकना सुनाई देता है वे आसमान की ओर इशारा करके कहते हैं : देखो चाँद चाँद।


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में मंगलेश डबराल की रचनाएँ