डाउनलोड मुद्रण

अ+   अ-

कविता

अब लिखो
अनुकृति शर्मा


अब लिखो
जबकि श्रावण का
सुनील हरित उजीता
लिपा है पेड़ों तले
और सहसा फूटी हँसी-सा
दोंगरा इक
अभी-अभी बरस कर थमा है।
अब जबकि मुखरा श्यामा
अधीर कुरला रही है
नारिकेल-कुंज में
और पतफुदकी
पायल-सी झनझना रही है।
लिखो अब
जबकि अनाम गंध
उड़ रही है मन सी
और हवा की फूँक से
बज रही हैं वंशियाँ
दुर्दम्य उठती हूक को
अब ही लिखो।
 


End Text   End Text    End Text