डाउनलोड मुद्रण

अ+   अ-

कविता

यह जो हरा है
प्रयाग शुक्ल


यह जो फूटा पड़ता है
हरा, पत्तों से -
धूप के आर-पार
वही फूट आता है
किसी और जगह,
किसी और सुबह।

भरोसा है तो
इसी हरे का।


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में प्रयाग शुक्ल की रचनाएँ