डाउनलोड मुद्रण

अ+   अ-

कविता

मुझसे बोलो
प्रयाग शुक्ल


बादल! मुझसे बोलो!

बंद रंध्र सब खोलो!
रोम रोम में बजो
हमारे हो लो!

मिट्टी की यह छुअन
तुम्हारी, उमड़े
गन्ध बने स्मृति की -
व्याकुल, बोलो!

जी भर जी को धो लो!


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में प्रयाग शुक्ल की रचनाएँ