डाउनलोड मुद्रण

अ+   अ-

कविता

कोंकाबेली
प्रयाग शुक्ल


उगी है कोंकाबेली
फूली
पानी में -
फूलती थी जैसे बचपन में।

पौधे ये और
फूल ये और
सुबह ये और

पर फूली है
कोंकाबेली
फूलती थी जैसे
मेरे बचपन के
इस
गाँव में !


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में प्रयाग शुक्ल की रचनाएँ