डाउनलोड मुद्रण

अ+   अ-

कविता

सिरहाने रात के
प्रयाग शुक्ल


तकिये के सिरे पर सिर -

उखड़ी हुई नींद में
असंख्य गाँठों को खोलते
अँधेरे में दिखती चीजों की
शक्ल को पूरा करते -
खिड़की से झाँकते तारों
पत्तों को लाते करीब
करवट बदलते
चीजों की धड़कनों साँसों को
सुनते -

सिरहाने रात के !


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में प्रयाग शुक्ल की रचनाएँ