डाउनलोड मुद्रण

अ+   अ-

कविता

एक कविता लिखना चाहता हूँ
प्रयाग शुक्ल


एक कविता लिखना चाहता हूँ

हो रही है शाम।
डूबने वाले हैं अँधेरे में पेड़।
इमारतों के ओर-छोर।
घर जाना चाहती हैं चिड़ियाँ।
एक सन्नाटा है यहाँ।
खाली पड़ी हैं बगीचे की कुर्सियाँ।

आ रही हैं घरों से
आवाजें मिली-जुली।

आकाश फिर लौट आया है अपने में।

एक कविता लिखना चाहता हूँ।


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में प्रयाग शुक्ल की रचनाएँ