डाउनलोड मुद्रण

अ+   अ-

अन्य

महाशय 'क' का प्यार
बर्टोल्ट ब्रेख्त


महाशय 'क' से पूछा गया, 'जब आप किसी आदमी को प्यार करते हैं, तब क्या करते हैं ?'

महाशय 'क' ने जवाब दिया : 'मैं उस आदमी का एक खाका बनाता हूँ और इस फिक्र में रहता हूँ कि वह हूबहू उसी के जैसा बने।'

'कौन? वह खाका?'

'नहीं,' महाशय 'क' ने जवाब दिया : 'वह आदमी।'

(अनुवाद : मोहन थपलियाल)


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में बर्टोल्ट ब्रेख्त की रचनाएँ