डाउनलोड मुद्रण

अ+   अ-

कविता

रहीम ग्रंथावली
भाग 6
मदनाष्‍टक

रहीम


शरद-निशि निशीथे चाँद की रोशनाई ।
सघन वन निकुंजे वंशी बजाई ।।
रति, पति, सुत, निद्रा, साइयाँ छोड़ भागी ।
मदन-शिरसि भूय: क्‍या बला आन लागी ।।1।।

कलित ललित माला या जवाहिर जड़ा था ।
चपल चखन वाला चाँदनी में खड़ा था ।।
कटि-तट बिच मेला पीत सेला नवेला ।
अलि बन अलबेला यार मेरा अकेला ।।2।।

दृग छकित छबीली छैलरा की छरी थी ।
मणि जटित रसीली माधुरी मूँदरी थी ।।
अमल कमल ऐसा खूब से खूब देखा ।
कहि सकत न जैसा श्‍याम का हस्‍त देखा ।।3।।

कठिन कुटिल कारी देख दिलदार जुलफे ।
अलि कलित बिहारी आपने जी की कुलफें ।।
सकल शशिकला को रोशनी-हीन लेखौं ।
अहह! ब्रजलला को किस तरह फेर देखौं ।।4।।

ज़रद बसन-वाला गुल चमन देखता था ।
झुक झुक मतवाला गावता रेखता था ।।
श्रुति युग चपला से कुण्‍डलें झूमते थे ।
नयन कर तमाशे मस्‍त ह्वै घूमते थे ।।5।।

तरल तरनि सी हैं तीर सी नोकदारैं ।
अमल कमल सी हैं दीर्घ हैं दिल बिदारैं ।।
मधुर मधुप हेरैं माल मस्‍ती न राखें ।
विलसति मन मेरे सुंदरी श्‍याम आँखें ।।6।।

भुजंग जुग किधौं हैं काम कमनैत सोहैं ।
नटवर! तव मोहैं बाँकुरी मान भौंहें ।।
सुनु सखि! मृदु बानी बेदुरुस्‍ती अकिल में ।
सरल सरल सानी कै गई सार दिल में ।।7।।

पकरि परम प्‍यारे साँवरे को मिलाओ ।
असल समृत प्‍याला क्‍यों न मुझको पिलाओ ।।
इति वदति पठानी मनमथांगी विरागी ।
मदन शिरसि भूय; क्‍या बला आन लागी ।।8।।

 


End Text   End Text    End Text