डाउनलोड मुद्रण

अ+   अ-

अन्य

एलिस मुनरो
गीत चतुर्वेदी


एलिस मुनरो बीस साल की उम्र से कहानियाँ लिख रही थीं, लेकिन जब उनकी कहानियों की पहली किताब छपी, तब तक उनकी उम्र सैंतीस साल हो चुकी थी। 'डांस ऑफ द हैप्पी शेड्स' शीर्षक की इस किताब को कनाडा का सबसे बड़ा साहित्यिक पुरस्कार मिला। जब वह पुरस्कार लेने गईं, तो अखबारों में साथी लेखकों ने ताना कसा, 'उनका व्यवहार किसी शर्मीली गृहिणी की तरह था।'

एलिस मुनरो को इस साल का नोबेल पुरस्कार मिलना न केवल एक बड़ी साहित्यिक प्रतिभा को उसका ड्यू मिलना है, बल्कि यह उस गृहिणी, जिसके लिए तमाम आर्थिक तंगियों के बावजूद बच्चों की परवरिश, पति की जरूरतों और घर के तमाम कामों से बड़ी कोई प्राथमिकता नहीं होती, के घरेलू संघर्ष के बीच अपनी रचनात्मकता से कोई समझौता न करने की जिद का भी सम्मान है। इस समय 82 साल की मुनरो ने अपना ज्यादातर लेखन डायनिंग रूम में किया, जहाँ रसोई और अन्य कामों से समय चुरा वह दो-दो, चार-चार पंक्तियाँ लिख लेती थीं। उन्होंने दो महीने के बच्चे को पालने में झुलाते हुए कहानियाँ लिखीं। टाइप करते समय जब दो साल की बच्ची नींद न आने की शिकायत करते हुए उनकी गोद में आकर लेट जाती थी, तब वह दाहिने हाथ से उसे थपकी देतीं और बाएँ हाथ से टाइप करती रहतीं। (कहानी थी 'थैंक्स फॉर द राइड') ज्यादा समय नहीं मिलता था, इसलिए वह छोटी कहानियाँ ही लिखती रहीं, कभी लंबी कहानी या उपन्यास नहीं लिख पाईं। यह कसक उनके भीतर आज भी है।

और एक दिन वह इतनी बड़ी लेखक बन गईं कि अपने लिखे हुए से अपना घर चला सकें, तो तमाम बड़े लेखकों के कदमों पर चलते हुए उन्होंने अपने लिए एक बड़ा-सा दफ्तर किराए पर ले लिया, जिसमें उन्होंने तमाम किताबें सजाईं और लिखने के लिए बैठ गईं, पर वह वहाँ कुछ नहीं लिख पाईं। बड़ी मशक्कत के बाद उन्होंने एक कहानी लिखी, जो इसी थीम पर थी कि एक लेखिका अपने लिए दफ्तर बनवाती है, पर उसमें वह कुछ नहीं लिख पाती। (कहानी थी, 'द ऑफिस')

उन्हें ऐसे जीवन की आदत ही नहीं थी, सो वह वापस अपने कस्बे में लौट आईं। गाँव-देहात की अपनी दुनिया में। जिस समय अंग्रेजी का पूरा साहित्य महानगरों के आसपास केंद्रित है, मुनरो उन गिने-चुने लेखकों में से हैं, जिनकी कहानियों की किरदार कस्बाई लड़कियाँ होती हैं, जो अपनी छोटी-छोटी दुनिया में अपने स्त्री होने को कभी अभिशाप की तरह झेलती हैं, तो कभी अपनी मर्जी से अपनी पसंद का परचम बुलंद करती हैं। उनकी कहानियाँ घर, परिवार, स्त्रीत्व, मातृत्व के उन गलियारों में रहती हैं, जिन्हें बदलते दौर में पुराना विषय मान लिया गया है, लेकिन यही उनके लेखक का जीनियस है कि वह इनका ऐसा आधुनिक विश्लेषण करती हैं कि पाठक के रूप में हम चौंक जाते हैं। यह एक स्त्री की दुनिया के उन तिलिस्मी दरवाजों को खोल देती हैं, जिन्हें हम दरवाजा नहीं, बल्कि दीवार मानने की भूल कर रहे होते हैं। वह आख्यान रचने के ऐसे तरीके खोज लाती हैं, जो दिखने में बेहद सादे और सरल होते हैं, लेकिन उनके जरिए वह अपने पाठक की नसों में घुलती जाती हैं। बहिर्मुखी समाज में एक स्त्री के अंतर्लोक का चित्रण करने वाली मुनरो ऐसी लेखिका हैं, जिसे हर पुरुष को पढ़ना चाहिए।

यह तथ्य है कि दुनिया में कहानियों या जिन्हें अंग्रेजी में शॉर्ट स्टोरी कहा जाता है, को ज्यादा वजन नहीं मिलता। हर कहानीकार से उपन्यासकार हो जाने की उम्मीद की जाती है। चेखोव के बाद कहानी-कला का लगभग अवसान मान लिया गया। उसके बाद भी कहानी में काफी काम होता रहा। मुनरो नोबेल के इतिहास की पहली लेखक हैं, जिन्हें शुद्ध तौर पर कहानी या शॉर्ट स्टोरी के लिए यह पुरस्कार दिया गया है। इससे पहले इवान बूनिन को 1933 में मिला था, पर बूनिन ने कई उपन्यास भी लिखे थे। मारकेस को पुरस्कार देते समय उनकी कहानियों को भी रेखांकित किया गया था, लेकिन हम सभी जानते हैं कि मारकेस की बसाहट उनके उपन्यासों में ही है।

यह मुनरो की कहानियों की शक्ति ही है कि उपन्यासों के इस दीर्घ-कालीन युग में वह कहानी विधा में यह पुरस्कार पाती हैं। उन्हें पूरे सम्मान के साथ 'आज का चेखोव' कहा जाता है। इस उपाधि की वैधता की गवाही उनकी कहानियों से बेहतर और कोई चीज नहीं दे सकती। उन्हें मिला यह पुरस्कार विश्व-साहित्य के स्तर पर कहानी या शॉर्ट स्टोरी को नया जीवन देने की राह प्रशस्त कर सकता है।

कुछ तथ्‍य -

* कॉलेज की पढ़ाई के लिए स्कॉलरशिप ली, बाकी खर्च चलाने के लिए वेटर की नौकरी की, कई बार अपना खून बेचा, तंबाकू कारखानों में काम किया या लाइब्रेरियों में पार्ट-टाइम नौकरी की, लेकिन लिखने को लेकर जुनून कभी कम नहीं हुआ।

* शुरुआती दौर में जब उनकी किताबें छपीं, तो साथी लेखक उन्हें पसंद नहीं करते थे। वह बेहद सुंदर थीं और उतनी ही प्रतिभावान-स्वाभिमानी, शायद इसीलिए उनके प्रति एक ईर्ष्‍या का भाव रहा। मुनरो को इस नापसंदगी के बारे में चालीस साल बाद पता चला।

* एक बार एक महिला ने चार सौ डॉलर का भुगतान किया ताकि मुनरो अपनी कहानी के एक चरित्र का नाम उसके नाम पर रख दें। 'फ्रेंड ऑफ माय यूथ' में नर्स के चर्चित किरदार को मुनरो ने उस महिला का नाम दिया - ऑड्रे एटकिन्सन।

* मुनरो ने अपने पहले पति जिम मुनरो के साथ कनाडा के विक्टोरिया में किताबों की एक दुकान खोली थी - मुनरोज बुक्स। आरंभिक वर्षों में उसमें इतना घाटा हुआ कि दिवालिया होने की नौबत आई। आज पचास साल बाद वह एक बड़ा गौरवशाली प्रतिष्ठान बन गया है।

* 22 साल के विवाहित जीवन के बाद मुनरो ने अपने पति को तलाक दे दिया। उन्होंने दूसरी शादी उस पुरुष से की, जिसे वह बरसों पहले कॉलेज में मन ही मन प्रेम करती थीं। उस पुरुष को उस प्रेम के बारे में पचीस साल बाद पता चला और उसके चार घंटे के भीतर ही दोनों ने साथ रहने का फैसला कर लिया।

* मुनरो की कहानियाँ सबसे ज्यादा 'न्यू यॉर्कर' में छपी हैं, पर पहली बार वहाँ छपने के लिए उन्हें बीस साल लंबा रिजेक्शन झेलना पड़ा। उनकी किताबें छपकर चर्चित हो चुकी थीं, फिर भी 'न्यू यॉर्कर' से उनकी कहानियाँ वापस आ जातीं, जिनमें जगह-जगह पेंसिल से टिप्पणियाँ और सुझाव लिखे होते।

* इस साल की शुरुआत में मुनरो ने लेखन से संन्यास ले लेने की घोषणा की थी, लेकिन नोबेल मिलने के बाद उन्होंने कहा कि इससे उन्हें फिर से लिखने की प्रेरणा मिल सकती है।


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में गीत चतुर्वेदी की रचनाएँ



अनुवाद