डाउनलोड मुद्रण

अ+   अ-

बाल साहित्य

पानी बरसा
नवीन सागर


हवा तेज बह चली सरासर
धीरे बहना भूल के
उड़े बगुले धूल के।
जोर-जोर से लगे डोलने पेड़

हवा से बोलने
उड़ी धूप छायाएँ लेकर
दसों दिशाएँ खोलने
जो भी निकला बाहर उसको
लगे थपेड़े फूल के।

टन-टन-टन-टन घण्‍टी बाजी
गेट खुले स्‍कूल के।
खाली झूले रहे झूलते
बच्‍चे भग गए झूल के।

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में नवीन सागर की रचनाएँ