डाउनलोड मुद्रण

अ+   अ-

कविता

अच्छा लगा
कुँवर नारायण


पार्क में बैठा रहा कुछ देर तक
अच्छा लगा,
पेड़ की छाया का सुख
अच्छा लगा,
डाल से पत्ता गिरा - पत्ते का मन,
"अब चलूँ" सोचा,
तो यह अच्छा लगा...

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में कुँवर नारायण की रचनाएँ



अनुवाद