डाउनलोड मुद्रण

अ+   अ-

कविता

आपके सपने आपका सबसे बड़ा अपराध थे
विमल चंद्र पांडेय


आपको अगर अपने बचपन की चीजें अच्छे से याद हो
तो आप जरूर मानेंगी कि आपकी सारी जिदें पूरी की गईं
आपको एक खांचा दिया गया था
जिसमें रहते हुए आपको सबका ढेर-ढेर सारा प्यार पाना था

आपके लिए पूरा एक संसार आबाद था
माँ का दुलार भरा आलिंगन और पिता की आँखों का गर्व
भाई का मखमली स्नेह और सहेलियों की हँसियों का नूर
इन सबके अलावा शादी के बाद पिता की पसंद के एक राजकुमार की रेशमी बाँहें

बस आपको इतना करना था कि उस खांचे से बाहर नहीं निकलना था
आपको डॉक्टर या इंजिनियर बनने का सपना देखना चाहिए था
ज्यादा से ज्यादा आइएएस ऑफिसर
आपने जो सपने देखे उनकी रोशनी उन खांचों से बाहर जाती थी
वह रोशनी आपके पिताओं की आँखों को चुँधिया जाती थी

इनसानों की तरह सपने भी मासूम थे और उनकी भी जाति होती थी
आपके सपनों की जाति आपके पिता के सपनों की जाति से बड़ी नहीं होनी चाहिए थी
आपका घर छोड़ना डोली में होना चाहिए था

आप इस बात का श्रेय दें उन्हें
उनकी सीखों ने ही आपके भीतर की चिंगारी को फूँक मारी
लेकिन कमाल की बात थी कि उस नींव पर कोई सपनीली इमारत बनाने की कल्पना
आपकी जिंदगी की सबसे बड़ी भूल थी

आपको अपना गर्व मानने वाले पिता नहीं समझेंगे आपके सपनों की कीमत
उसकी भूख और आपकी आँखों की चमक
उन्हें आपसे प्यार है पर आप पर भरोसा करने का जोखिम वे नहीं उठाएँगे

आप एक बड़े शहर में अपने सपनों का पीछा कर रही होंगी
आपके पिता अपने छोटे से घर में आपको न याद करने की कोशिश कर रहे होंगे
आप जिस वक्त बसों और ट्रेनों में ढेरों लिजलिजे कामुक स्पर्शों के बीच
जबड़े भींचे अपने ईश्वर से पूछ रही होंगी अपने सपनों का मूल्य
आपके पिता खाने की टेबल पर माँ से कह रहे होंगे, 'मेरे सामने उसका नाम लेने की जरूरत नहीं'

आप जिस वक्त अपनी माँ से फोन पर यह कहना चाहती हैं
'तुम्हारे बिना लड़ाइयाँ लड़ना बहुत कठिन है माँ'
वे माँ के पीछे खड़े आपके हार मान कर लौट आने की दुआ कर रहे होते हैं
उन्हें नहीं पता कि आपके सपनों में अनगिनत सपनों के बीज हैं
उन्हें नहीं पता कि आप अपना घर छोड़कर सिर्फ अपने लिए नहीं निकली हैं

आपको भी नहीं पता कि आप जिस दिन सफलता की एक छोटी सी हँसी हँसती हैं
बहुत सारे छोटे शहरों में अचानक कितने ही सहमे चेहरों पर मुस्कान आ जाती है
आपको अपने पिता को कुछ समय भूले रहने की जरूरत है
जो आपको दुनिया में सबसे ज्यादा प्यार करते हैं
जो आपके सबसे बड़े दुश्मन हैं

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में विमल चंद्र पांडेय की रचनाएँ