डाउनलोड मुद्रण

अ+   अ-

कविता

हैरानी एक जरूरी चीज है
विमल चंद्र पांडेय


हमें भरोसा करने की बीमारी है साहब
जैसे ठगे जाने की आदत
और प्यार किए जाने का जुनून

आपमें पाया जाता होगा कुछ लचीलापन जरूर
आपकी मिट्टी सानते हुए कुछ मैदे का प्रयोग भी किया गया होगा
लेकिन हम कड़े हैं
और जब तक ऐसे हैं
तभी तक खड़े हैं

हम दुनिया को कौतुक की तरह देखते हैं
मासूम चीजों पर खुश होने दीजिए हमें

हमने नहीं पढ़ी ढेर सारी किताबें जो नष्ट कर दें हमारी हैरानी
हैरानी जीने के लिए एक जरूरी चीज है

आपको सब पता होगा साहब !
हमें सिर्फ इतना ही पता है कि सुबह फूल खिलते हैं और चिड़िया गाती हैं
इसे लिख कर नहीं सुँघाया या सुनाया जा सकता मेरी छह महीने की बेटी को
जब नदी में उतरते हैं तो कँपकँपी होती है
जो किसी किताब में नहीं बताई जा सकती

घड़ियालों को देखकर डरने दीजिए हमें
हमारी सिहरन के साथ छोड़ जाइए ये रास्ता
मत बताइए कि इसका थूथन कमजोर होता है जिसे तोड़ा जा सकता है आसानी से
हम लड़ाई को अंतिम हथियार की तरह प्रयोग करते हैं साहब !
हम जानकर क्या करेंगे कि साँप टेढ़े-मेढ़े दौड़ने से नहीं करेगा हमारा पीछा

आप मानते नहीं सरकार किताबों के अलावा किसी और की बात
पर विनती सुनें मेरी
और कुछ करें न करें
सावधानी जरूर रखें जैसे पर्स में रखते हैं क्रेडिट कार्ड
महाशक्ति बनें तो फूलों के न कुचले जाने का ध्यान रखें
गोलियाँ चलाएँ तो जरा दूर जाकर निशाना लगाएँ
इधर मेरी बेटी आराम कर रही है

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में विमल चंद्र पांडेय की रचनाएँ