डाउनलोड मुद्रण

अ+   अ-

कविता

अकर्ता
भवानीप्रसाद मिश्र


तुम तो
जब कुछ रचोगे
तब बचोगे

मैं नाश की संभावना से रहित
आकाश की तरह
असंदिग्ध बैठा हूँ !

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में भवानीप्रसाद मिश्र की रचनाएँ