डाउनलोड मुद्रण

अ+   अ-

कविता

अस्वस्थ होने पर
त्रिलोचन


मित्रों से बात करना अच्छा है
और यदि मुँह से बात ही न निकले तो
उतनी देर साथ रहना अच्छा है
जितनी देर मित्रों को
यह चुप्पी न खले।

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में त्रिलोचन की रचनाएँ