डाउनलोड मुद्रण

अ+   अ-

कविता

अस्तित्व
ब्रजेंद्र त्रिपाठी


एक मुखर प्रतिवाद है
चुप्पी
शोर के खिलाफ

किस वेदना से व्याकुल
सागर
पटकता रहता है सिर
किनारों पर

किसकी तलाश में
गाँव-गाँव, शहर-शहर
जंगल-जंगल की खाक छानती फिरती
है ये पगली हवा

ये कौन खिला गया है
कल तक सिमटी-सी सिकुड़ी-सी पड़ी
कलियों के होंठों पर
मधुर हास

ये किसने
बिखेर दिए हैं
रात्रिकालीन आकाश में
असंख्य जुगनू

ये कौन है
जो उतरता है
दिल में
दर्द की गहरी लकीर-सा
कौन है
जिसे देखा था
रात सपने में !

जिंदगी कोई सपना तो नहीं
एक तल्ख हकीकत है
महसूस किया है
शिद्दत के साथ

सोचता हूँ
मेरा अस्तित्व क्या है ?

 


End Text   End Text    End Text