डाउनलोड मुद्रण

अ+   अ-

आलोचना

अदम गोंडवी का निरालापन
उमेश चौहान


हिंदी के चर्चित गजलकार अदम गोंडवी (मूल नाम रामनाथ सिंह) से मैं कभी मिला नहीं, लेकिन एक लंबे अरसे से मैं उनकी शायरी का कायल रहा हूँ। अभी हाल ही में उनके निधन के समाचार ने मुझे विह्वल कर दिया तो मैं वाणी प्रकाशन से उनका काव्य-संग्रह ‘समय से मुठभेड़’ खरीद लाया और उनकी एक-एक गजल व नज्म को कई-कई बार पढ़ गया। वे संभवतः दुष्यंत के बाद हिंदी के सबसे ज्यादा उद्धृत किए जाने जाने गजलकार हैं। हमेशा ठेठ ग्रामीण पहनावे में रहने वाले, गाँव की चमारों की गली से लेकर दिल्ली व संसद के भीतर तक की गतिविधियों पर पैनी नजर रखने वाले, शोषण, अन्याय व दोगलेपन के खिलाफ बेबाकी से लिखने वाले तथा भूख व अन्य समस्याओं का निदान केवल क्रांति के जरिए देखने वाले अदम गोंडवी की शख्सियत सचमुच निराली थी। उन्होंने थोड़ा ही लिखा लेकिन जो भी लिखा एक आम आदमी के नजरिए से लिखा और एक जनकवि के रूप में अपनी पहचान बना ली।

अदम गोंडवी को अदबी इदारों में फन का दम घुटता दिखता था। वे अदीबों को ठोस धरती की सतह पर लौट आने और अदब को मुफलिसों की अंजुमन तक ले जाने का आह्वान करने वाले शायर थे। वे जिस्म के मोहक कटानों को दिखाने में मशगूल टी.वी. व अखबारों की घटिया सोच के प्रति दुखी होने वाले इनसान थे। “इनके कुत्सित संबंधों से पाठक का क्या लेना-देना, लेकिन ये तो जिद पे अड़े हैं अपना भोग-विलास लिखेंगे” कहकर उन्होंने साहित्यकारों के बीच पनप रही विकृत प्रवृत्तियों पर भी गहरा कटाक्ष किया। “जो बदल सकती है इस दुनिया के मौसम का मिजाज, उस युवा पीढ़ी के चेहरे की हताशा देखिए” कहकर उन्होंने नौजवानों की चेतना को झकझोरा। “घर के ठंडे चूल्हे पर खाली पतीली है, बताओ कैसे लिख दूँ धूप फागुन की नशीली है” कहकर उन्होंने सहजता से हमें काव्याभिव्यक्ति के नए आयाम समझाए।

उत्तर प्रदेश की सामाजिक व प्रशासनिक विसंगतियों को उजागर करते हुए उन्होंने कितना खुल्लमखुल्ला कहा, “कभी आकर जिले में आप सामंती ठसक देखें, कहा जाता है यू.पी. में न राजा है न रानी है” और फिर बेबाकी से, “ये मैकाले के बेटे खुद को जाने क्या समझते हैं, इनके सामने हम लोग थारू हैं तराई के” कहकर उन्होंने अफसरशाही की अहंकारी मानसिकता को लताड़ने के साथ-साथ अपने पड़ोसी तराई-क्षेत्र के थारू आदिवासियों के प्रति बरती जा रही सामाजिक अवहेलना को भी सामने ला दिया। वे आजाद भारत के मौजूदा हालातों से इत्तेफाक नहीं रखते थे, “सौ में सत्तर आदमी फिलहाल जब नाशाद है, दिल पे रख के हाथ कहिए देश क्या आजाद है” और वे स्वार्थी हुक्मरानों को, “मुल्क जाए भाड़ में इससे उन्हें मतलब नहीं, एक ही ख्वाहिश है कि कुनबे में मुख्तारी रहे” जैसी बातें कह-कहकर लगातार लताड़ते रहे।

वे सांप्रदायिक दंगों के पीछे की सियासत को बखूबी पहचानते थे। “शहर के दंगों में जब भी मुफलिसों के घर जले, कोठियों की लॉन का मंजर सलोना हो गया” कहकर उन्होंने इस सियासत की असलियत उघाड़ दी। वे सरकारी नीतियों को, “पहले जनाब कोई शिगूफा उछाल दो, फिर कर का बोझ कौम की गर्दन पे डाल दो” जैसी बातें कहकर पूरी तरह नंगा कर देने वाले शायर थे। घूसखोरी की बढ़ती प्रवृत्ति के बारे में उन्होंने, “रिश्वत को हक समझ के जहाँ ले रहे हों लोग, है और कोई मुल्क तो उसकी मिसाल दो” कहकर अपनी चिंता जताई। बढ़ती आर्थिक असमानता से चिंतित होकर उन्होंने, “तुम्हारी मेज चाँदी की तुम्हारे जाम सोने के, यहाँ जुम्मन के घर में आज भी फूटी रकाबी है” जैसी बेमिसाल पंक्तियाँ लिखी। “सुर्खी है मेरे खूँ की इन लॉन के फूलों में, इस तल्ख हकीकत को क्यूँ आप छुपाए हैं” कहकर उन्होंने शहरी अमीरों से गाँव के गरीबों की पीड़ा बताने की कोशिश की। वे नैतिकता में आ रही गिरावट का कारण गरीबी को ही मानते थे, “चोरी न करें झूठ न बोले तो क्या करें, चूल्हे पे क्या उसूल पकाएँगे शाम को।” भूख की तिलमिलाहट और रोटी की जंग तो उनकी शायरी में जगह-जगह बिखरी हुई है।

‘काजू भुने प्लेट में’ जैसी बेजोड़ गजल लिखकर उन्होंने वर्तमान राजनीतिक व्यवस्था के प्रति गहरा आक्रोश व्यक्त किया और इस बात की ताकीद की कि अब जनता के पास बस बगावत का ही चारा बचा है। उन्होंने हाथ में हथियार उठा लेना जनता का हक माना और लिखा, “गर खुदसरी की राह पर चलते हों रहनुमा, कुर्सी के लिए गिरते-सँभलते हों रहनुमा, गिरगिट की तरह रंग बदलते हों रहनुमा, टुकड़ों पे जमाखोर के पलते हों रहनुमा, जनता को हक है हाथ में हथियार उठा ले।” अदम गोंडवी जैसा जनवादी शायर ही भारत माता की ऐसी तस्वीर खींच सकता था, “भारत माँ की इक तस्वीर मैंने यूँ बनाई है, बँधी है एक बेबस गाय खूँटे में कसाई के।” उन्होंने, “जिसकी गर्मी से महकते हैं बगावत के गुलाब, आपके सीने में वह महफूज चिन्गारी रहे” कहकर जन-जन से अपने मन में प्रतिरोध की भावना को शाश्वत रूप से जगाए रखने का आह्वान किया। उन्होंने दर्जनों किताबें नहीं लिखीं। ढेरों शायरी नहीं की। लेकिन जितना भी उन्होंने लिखा, उसी से अपने देश-काल की सारी विसंगतियों को उजागर करके रख दिया और हम सब में भूख एवं गरीबी से लड़ने तथा व्यवस्था से भिड़ने का अदम्य साहस भर दिया। तभी तो मेरे जेहन में उनकी स्मृतियों को प्रणाम करते समय आज यह शेर उभर रहा है -

“वो बागी शायर था, जियाला था, ‘समय से मुठभेड़’ करने वाला था,
सच वो कहता था तान के सीना, वो अदम गोंडवी था या ‘निराला’ था?”


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में उमेश चौहान की रचनाएँ