डाउनलोड मुद्रण

अ+   अ-

बाल साहित्य

पर्वत कहता
सोहन लाल द्विवेदी


पर्वत कहता
शीश उठाकर
तुम भी ऊँचे बन जाओ
सागर कहता है
लहराकर
मन में गहराई लाओ।

समझ रहे हो
क्या कहती है
उठ-उठ गिर गिर तरल तरंग
भर लो, भर लो
अपने मन में
मीठी-मीठी मृदुल उमंग।
धरती कहती-
धैर्य न छोड़ो
कितना ही हो सिर पर भार
नभ कहता है
फैलो इतना
ढक लो तुम सारा संसार

 


End Text   End Text    End Text